Alibaba ने भारत में बंद किया UC Browser और UC News का कारोबार

alibaba Alibaba ने भारत में बंद किया UC Browser और UC News का कारोबार

भारत सरकार ने पिछले दिनों डाटा प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए कुल 59 चाइनीज ऐप्स को भारत में बैन किया था। सरकार के इस फैसल के बाद अब चीन की सबसे बड़ी और लोकप्रिय ई-कॉमर्स कंपनी Alibaba ने भारत से अपना कारोबार समेटना शुरू कर दिया है। कंपनी ने अपनी दो लोकप्रिय ऐप्स UC Browser और UC News को कारोबार भारत में पूरी तरह से बंद कर दिया है। इसके अलावा कंपनी ने Vmate का बिजनेस भी बंद कर दिया है। साथ ही कई भारतीय कर्मचारियों को भी नौकरी से निकाल दिया गया है।

Reuters की एक रिपोर्ट में जानकारी दी गई थी कि UCWeb ने भारत में ब्राउजर और न्यूज ऐप के साथ ही शॉर्ट वीडियो ऐप Vmate का भी संचालन किया था। वहीं कंपनी के कुछ कर्मचारियों ने 15 जुलाई को एक पत्र के जरिए बताया कि भारत में चाइनीज ऐप्स पर बैन लगने के बाद वे अपनी नौकरी खो रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार Alibaba ने अपने पे-रोल पर काम करने वाले लगभग 26 भारतीयों को नौकरी से निकाल दिया है और उन्हें ऐप बंद होने का हवाला दिया गया है। हालांकि, कंपनी ने उन्हें मुआवजा देने का वादा किया है। लेकिन अभी तक इस बारे आधिकारिक तौर पर कंपनी की ओर से कोई प्रेस रिलीज या स्टेटमेंट जारी नहीं की गई है। ऐसे में कुछ भी स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता है।

Advertisement

रिपोर्ट के अनुसार Alibaba चीन की एक लोक​प्रिस ई-कॉमर्स कंपनी है, जिसने भारत में एक महत्वपूर्ण जगह बनाई है। Alibaba ग्रुप के UC Browser के भारत में 130 मिलियन से अधिक एक्टिव यूजर्स हैं। भारत में कंपनी के 100 डायरेक्ट कर्मचारी हैं जबकि सैंकड़ों कर्मचारी थर्ड पार्टी के जरिए काम कर रहे हैं।

Alibaba ने भारत में UCWeb, UC Browser और Vmate के कारोबार को पूरी तरह से बंद कर दिया है और फैसले की जानकारी कंपनी ने अपने कर्मचारी को एक पत्र जारी करके दी है। जिसमें बताया गया है कि भारत में इन सर्विसेज के सभी कार्यालय बंद कर दिए गए हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि ​इन सर्विसेज को स्थायी तौर पर बंद किया गया है या अस्थायी तौर पर।

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Tech260
Logo
Enable registration in settings - general
%d bloggers like this: